राज्य

कुत्तों का आतंक

उत्तर प्रदेश में कुत्तों का आतंक लगातार बढ़ता जा रहा है. इस बार इसका शिकार दो साल की बच्ची हुई. गाजियाबाद के मोदीनगर में अपने घर के बाहर खेल रही 2 साल की बच्ची पर कुत्तों ने हमला कर दिया और उसे खींचकर गन्ने के खेत में ले गए. कुत्तों के काटने से बच्ची की मौत हो गई.
बच्ची के पिता ने बताया कि 2 साल की शिवानिया उनकी इकलौती संतान थी. सोमवार दोपहर एक बजे वो अपने घर के बाहर खेल रही थी. पिता भी उसके साथ मौजूद थे. लेकिन 2 मिनट के लिए वो किसी काम से अंदर गए. लौट कर आए तो देखा शिवानिया वहां से गायब थी.
सब ने बहुत ढूंढा. ढूंढते ढूंढते तो वो 800 मीटर दूर गन्ने के खेतो के पास गए . वहां एक औरत ने बताया कि खेतों से कुछ कुत्ते निकल रहे थे और उनके मुंह में खून लगा हुआ था. लोगों ने खेतों के अंदर जाकर देखा तो पाया कि कुत्ते बच्ची को काट रहे थे. उन्होंने कुत्तों को भगाया और बच्ची को हॉस्पिटल ले गए. मगर डॉक्टरों ने बच्ची को मृत घोषित कर दिया। जानकारी मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची मगर घर वालों ने शव पोस्टमॉर्टम के लिए देने से इनकार कर दिया।
इलाके के लोगों ने बताया भीमनगर कॉलोनी में पिछले कई दिनों से कुत्तों का आतंक है. ये कुत्ते गली में घूम रहे बच्चों पर हमला कर देते है। इसके अलावा यूपी के सीतापुर में भी कुत्तों के आतंक से लोग डरे हुए हैं. प्रशासन इस समस्या को लेकर ठोस कदम उठाने का दावा कर रहा है मगर फिर भी इस समस्या से निजात नहीं पाया जा सका है.