लखनऊ

दशहरी के बाद अब लखनऊ के खास आम

लखनऊ। दशहरी के बाद अब लखनऊ के खास आम अपनी नई पहचान बना रहे हैं। चमकदार रंग और खुशबू इनका सबसे बड़ा आकर्षण है। पहले कुछ किसान इन किस्मों की फसल खास मेहमानों को तोहफे में देने के लिए किया करते थे। लेकिन, इनकी कीमत समझ में आने के बाद अब ये किस्में बाजार में भी दिखने लगी हैं। इन खास किस्मों को किसान मंडी में बेचने की जगह खुद बाजार में बेच रहे हैं और कई गुना कीमत पा रहे हैं।
लम्बे समय से दशहरी लखनऊ की पहचान है। यहां किसान बड़ी मात्रा में दशहरी की फसल करते हैं। एक महीने के लिए दशहरी आता है। भारी पैदावार होने के कारण किसानों को बहुत अच्छी कीमत नहीं मिल पाती। दक्षिण भारत के आम के बाद आने वाले दशहरी का बहुत एक्सपोर्ट भी नहीं हो पाता। यही वजह है कि कई बड़े किसान आम की खास किस्मों की ओर आकर्षित हो रहे हैं।
बागों में लगभग 300 किस्म के आम होते हैं। दहशरी यहां इतनी जयादा मात्रा में होता है कि अच्छे दाम नहीं मिल पाते। इन खास किस्म के आमों की मांग है, लेकिन पैदा कम होते हैं। ज्यादातर बड़ी रिटले कंपनियां खुद उनसे संपर्क करके आम ले जाती हैं। कई किस्में तो ऐसी हैं, जिनकी 200–300 रुपये किलो तक बाजार में कीमत मिलती है। लखनऊ के ही किसान अजय राज ने बताया कि यूं तो आम की सैकड़ों किस्में हैं। खास आमों में भी कुछ किस्में हैं, जो ज्यादा प्रचलित हो रही हैं। हुस्न आरा, आम्रपाली, अंबिका, अरुणिता जैसे आमों की काफी मांग है।

खास किस्में और खासियत
गुलाब खास : यह आम बहुत खास है। इसमें गुलाब की खुशबू होती है और इसका उत्पादन कम होता है।
अंबिका : यह आम्रपाली और सेंसेशन का क्रॉस है। बहुत चटख रंग वाला यह आम पकने के बाद भी कई दिन तक रखा जा सकता है।
आम्रपाली : यह आम देर से तैयार होता है। इसकी खासियत यह है कि अंदर और बाहर एक साथ बराबर पकता है। पकने के बाद इसे कई दिन तक रखा जा सकता है।
नाजुक बदन : यह इतना नाजुक होता है कि हाथ लगाते ही दब जाता है। बहुत मीठा होता है। चटकदार लाल और हरा रंग इसकी पहचान है।
हुस्न आरा : यह आम देखते ही बनता है। लाल, हरा और पीला चमकदार रंग आकर्षित करता है। खूब मीठा होता है।
अन्य किस्में
गिलास, लैला मजनू, खास उल खास, तहसील वाला, आमीन अब्राहिमपुर, मल्लिका, जौहरी सफेदा, बेनजीर, गिलास, अरुणिमा, अरुणिका, श्रेष्ठा, अंबालिका, गुलाब जामुन, केसर, मोहन भोग, संडीला बेनजीर, टॉमी ऐटकिंग, हाथी झूल, शहद कुप्पी, तैमुरिया। ‑वेब

Advertisement

Advertisement

Advertisement