देश

नौकरियों का सटीक आंकड़ा नहीं होना एक कारणः नरेंद्र मोदी

नई दिल्लीः रोजगार के सवाल पर विपक्ष की आलोचना को सिरे से खारिज करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस बारे में राज्य सरकारों के आंकड़ों का हवाला दिया और सवाल किया कि अगर राज्यों में अच्छी संख्या में रोजगार सृजित हो रहे हैं तब केंद्र कैसे बेरोजगारी की स्थिति पैदा करेगा।
प्रधानमंत्री ने स्वराज मैगजीन को दिए साक्षात्कार में कहा कि नौकरियों के मुद्दे पर हमारे ऊपर अंगुली उठाने के लिए वह विपक्ष को दोष नहीं देते, मगर यह बताना जरूरी है कि नौकरियों का सटीक आंकड़ा नहीं होना एक कारण है.
मोदी ने कहा कि नौकरियों की कमी से अधिक बड़ा मुद्दा नौकरियों के डेटा की कमी होना है. विपक्ष ने स्वाभाविक रूप से अपनी पसंद की एक तस्वीर पेश करने और सरकार को दोषी ठहराने के लिए इस अवसर का फायदा उठाया है.
प्रधानमंत्री ने कहा कि साल 2022 तक किसानों की आय को दोगुणा करने के लिए उनकी सरकार ने चार स्तरीय रणनीति अपनाई है जिसमें लागत कम करना, उत्पादों की उचित कीमत सुनिश्चित करना, कटाई और कटाई के बाद नुकसान को कम करना और आय अर्जित करने के अधिक आयाम सृजित करना शामिल है. रोजगार के बारे में एक सवाल के जवाब में मोदी ने कहा कि रोजगार सृजन के विषय पर राजनीतिक परिचर्चा में एकरूपता की कमी हैं। ‑वेब