लखनऊ

लखनऊ से पांच बार सांसद बने अटल जी और प्रधानमंत्री की कुर्सी तक पहुंचे

लखनऊः पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी लखनऊ से ही वह पांच बार सांसद बने और प्रधानमंत्री की कुर्सी तक पहुंचे, लेकिन यहां न जमीन खरीदी, न कोई मकान। दिल्ली में बसने से पहले वह आखिरी दौर में भी ला-प्लास में किराए के सरकारी मकान में रहते रहे। वे लखनऊ वासियों के दिल में बसते थे और लखनऊ को उन्होंने अपने दिल में बसा रखा था।
लखनऊ से आखिरी बार साल 2004 में पर्चा दाखिल किया था। उस वक्त शपथ पत्र में सम्पत्ति घोषित की थी। शपथ पत्र के मुताबिक, उनके पास दिल्ली के ईस्ट ऑफ कैलाश में 22 लाख की कीमत का एक मकान था। इसके अलावा ग्वालियर में पैतृक मकान में भी कुछ हिस्सा मिला था, जिसकी कीमत छह लाख थी। उन्होंने प्रधानमंत्री रहने के दौरान बैंक खाते में 3.82 लाख रुपए घोषित किए थे।
यहां तक कि उनकों 2004 में पूर्व मुख्यमंत्री राम प्रकाश गुप्ता का मकान आवंटित किया गया, लेकिन उन्होंने इसे लेने से इनकार कर दिया। लखनऊ में ला-प्लास की जगह उस वक्त अटल जी को 10, माल एवेन्यू का आवास आवंटित कर दिया गया, जो बतौर पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाशजी को आवंटित था। अटल जी ने यह कहकर आवास लेने से इनकार कर दिया कि इसमें हमारे साथी का परिवार रहता है। मैं यह आवास कैसे ले सकता हूं। ‑वेब

Advertisement

Advertisement

Advertisement