राज्य

प्रभावी भाषण देने के लिए हिंदी के धारदार शब्दों को इस्तेमाल करना चाहते हैं उद्धव ठाकरे

मुंबई। अयोध्या में राम मंदिर बनाने का नारा देने वाले शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे 25 नवंबर को अयोध्या का दौरा करेंगे। इस दौरान वह करीब 1 घंटा हिंदी में भाषण देने वाले हैं। इसके लिए वह विशेषज्ञों से हिंदी की ट्यूशन ले रहे हैं। ऐसा कहा जा रहा है कि वे अपने भाषण को प्रभावी बनाने के लिए हिंदी के धारदार शब्दों का इस्तेमाल करना चाहते हैं।
शिवसेना का कहना है कि उद्धव को हिंदी अच्छे से आती है, लेकिन जहां तक भाषा प्रवाह की बात है वह उसे और मजबूत करना चाहते हैं। इसके पहले उन्होंने सभा में हिंदी में भाषण नहीं दिया है। हालांकि, वह छोटी-मोटी प्रेस कॉन्फ्रेंस हिंदी में करते रहे हैं।
हनुमानगढ़ी मंदिर भी जाएंगेः अयोध्या में मंदिर बनाने के आंदोलन का इतिहास उनके भाषण का मुख्य मुद्दा रहेगा। शिवसेना के सांसद संजय राऊत ने बताया कि उद्धव अयोध्या में विराजमान रामलला के दर्शन के साथ‑साथ प्रसिद्ध हनुमानगढ़ी मंदिर में माथा भी टेकेंगे। संत‑धर्माचार्यों से मुलाकात के बाद वह सरयू की आरती में भी भाग लेंगे। शिवसेना का कहना है कि मोदी सरकार राम मंदिर निर्माण के लिए संसद में प्रस्ताव लाए तो उनकी पार्टी समर्थन करेगी। ‑वेब