देश

कश्मीर में अलगाववादी नेता ही भड़काते हैं युवाओं को जबकि खुद की बच्चे पढ़ते हैं विदेशों में

अलगाववादी नेता लगातार युवाओं को कश्मीर में भटकाते रहते हैं. अलगाववादी नेता ही सबसे बड़े कारण हैं जिनकी वजह से स्थानीय युवा पत्थरबाजी करते हैं और विरोध करने के लिए सड़कों पर दिखते हैं, देशविरोधी नारेबाजी करते हैं. लेकिन अब इन्हीं नेताओं की पोल खुली है. गृह मंत्रालय ने उन अलगाववादी नेताओं की लिस्ट जारी की है, जिनके बच्चे विदेश में पढ़ते हैं. इन नेताओं में आसिया अंद्राबी से लेकर मीरवाइज उमर फारूक हर कोई शामिल हैं.

  1. निसार हुसैन (वहीदत ए इस्लामी): बेटा और बेटी ईरान में रह रहे हैं. बेटी ईरान में ही नौकरी करती है. 2. बिलाल लोन: सबसे छोटी बेटी ऑस्ट्रेलिया में पढ़ रही है. 3. अशरफ सहरई (चेयरमैन, तहरीक‑ए-हुर्रियत) दृ दो बेटे खालिद‑आबिद सऊदी अरब में काम करते हैं. 4. जीएम. भट्ट (आमिर ए जमात): बेटा सऊदी अरब में डॉक्टर 5. आसिया अंद्राबी (दुख्तरान‑ए-मिल्लत): दोनों बेटे विदेश में हैं. एक मलेशिया में पढ़ाई कर रहा है और दूसरा बेटा ऑस्ट्रेलिया में पढ़ रहा है. 6. मोहम्मद शफी रेशी (क्च्ड): बेटा अमेरिका में पीएचडी कर रहा है. 7. अशरफ लाया (तहरीक ए हुर्रियत) — बेटी पाकिस्तान में मेडिकल की पढ़ाई कर रही है. 8. जहूर गिलानी (तहरीक ए हुर्रियत) (सैयद अली शाह का दामाद) दृ बेटा सऊदी अरब में एयरलाइंस में काम करता है. 9. मीरवाइज उमर फारूक (हुर्रियत के चेयरमैन): बहन अमेरिका में रहती है. 10. मोहम्मद युसूफ मीर (मुस्लिम लीग): बेटी पाकिस्तान में मेडिकल की पढ़ाई कर रही है.
    ये उन नेताओं की लिस्ट है जो अलग कश्मीर के नाम पर घाटी में हिंसा को बढ़ावा देते हैं. युवाओं को हिंदुस्तान के खिलाफ भड़काते हैं और देशविरोधी हरकतें करवाते हैं. यही नेता अक्सर कश्मीर में बंद भी बुलाया करते हैं
    हालांकि, इस वक्त इनमें से कई नेता नजरबंद हैं या फिर हिरासत में हैं. कई नेताओं को दी गई सरकारी सुरक्षा को केंद्र सरकार ने वापस भी ले लिया है. हाल ही में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने संसद में ऐलान किया था कि मोदी सरकार ने अलगाववादियों को दी गई सुरक्षा वापस ले ली है. ‑वेब