देश

मास्टरमाइंड हाफिज सईद को कोर्ट ने दोषी ठहराया

नई दिल्ली। हाफिज सईद को पाकिस्तान की गुजरांवाला कोर्ट ने दोषी ठहराया। इस मामले को पाकिस्तान के गुजरात में ट्रांसफर कर दिया गया है। यह जानकारी पाकिस्तानी मीडिया के हवाले से एएनआई ने दी है।
गौरतलब है कि मुंबई हमले के मास्टरमाइंड और जेयूडी प्रमुख हाफिज सईद को हाल ही में लाहौर से गिरफ्तार कर लिया गया था। सईद को आतंकवाद रोधी विभाग(सीटीडी) ने पाकिस्तान के पंजाब प्रांत से गिरफ्तार किया गया था। अधिकारियों ने बताया था कि सईद आतंकवाद रोधी अदालत में पेश होने के लिए लाहौर से गुजरांवाला आया था तभी उसे गिरफ्तार किया गया। उसके खिलाफ कई मामले लंबित हैं। ‑वेब
देश के प्रधानमंत्री अखंड हिन्दुस्तान का सपना पूरा करेंगे
इस्लामाबाद। पाकिस्तान की राजधानी में अलग-अलग हिस्सों में कई भारत का समर्थन करने वाले बैनर दिखाई दिए। भारत सरकार द्वारा सोमवार को जम्मू कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा खत्म करने के बाद यहां नेशनल असेंबली के पास यह पोस्टर दिखाई दिए। इन बैनरों पर शिवसेना के नेता संजय राउत का वो बयान लिखा था जिसमें कहा गया था ’आज जम्मू-कश्मीर लिया है, कल बलूचिस्तान, पीओके लेंगे। मुझे विश्वास है कि देश के प्रधानमंत्री अखंड हिन्दुस्तान का सपना पूरा करेंगे।
जम्मू कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा खत्म करते हुए कहा कि कश्मीर एक द्विपक्षीय मुद्दा नहीं है, बल्कि एक आंतरिक है। पाकिस्तान ने इस कदम की कड़ी निंदा की और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर इस मुद्दे को उठाने की बात कही है। ये बैनर पाकिस्तानी संसद और प्रधानमंत्री इमरान खान के निवास से कुछ सौ मीटर की दूरी पर लगाए गए थे। ’अखंड भारत’ या अविभाजित भारत साथ ही इनपर लिखा गया था कि पाकिस्तान और बांग्लादेश भारत का हिस्सा है। बता दें कि यह अखंड भारत राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, हिंदू-राष्ट्रवादी संगठन के मुख्य लक्ष्यों में से एक रहा है। साथ ही ये बीजेपी का भी उद्देश्य रहा है। इस बैनर में शिवसेना सांसद संजय राउत की टिप्पणी भी लिखी गई है।
स्थानीय लोगों ने कहा कि यह हमारी कानून व्यवस्था की विफलता है कि इस्लामाबाद में इस तरह के बैनर लगाए गए हैं और हम उन्हें रोक नहीं पाए। इस्लामाबाद जिला मजिस्ट्रेट ने इस पर ध्यान देते हुआ महानगर निगम को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए पूछा कि बैनरों को हटाने में उन्हें पांच घंटे क्यों लगे। बता दें कि पत्रकार जब नकी तस्वीर लेने के लिए वहां पहुंचे तो उन्हें वहीं रोक दिया गया। पुलिस ने कुछ लोगों को पकड़ा जिन्होंने इसकी वीडियो या तस्वीर क्लिक की थी और उनके फोन से ये सब डिलीट करवा दिया। फिलहाल बैनर हटा दिए गए हैं और पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। ‑वेब