राज्य

बिहार में बारिश से चारों तरफ हाहाकार, जनजीवन अस्त‑व्यस्त

नई दिल्ली। पिछले कई दिनों से जारी भारी बारिश ने बिहार में एक बार फिर से बाढ़ जैसे हालात पैदा कर दिए हैं। बिहार में लगातार हो रही बारिश से चारों तरफ हाहाकार है और जनजीवन पूरी तरह अस्त‑व्यस्त हो चुका है। इतना ही नहीं, पटना समेत बिहार के कई जिले पूरी तरह से जलमग्न जैसी स्थिति में हैं, जिसकी वजह से अब तक 29 लोगों की मौत हो चुकी है।
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने सोमवार को ट्वीट किया, ’बिहार बाढ़ से हालात बेकाबू हो गए हैं और कई लोगों की मौत के समाचार हैं। जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करता हूं और कांग्रेस कार्यकर्ताओं से अपील करता हूं कि वे प्रभावित लोगों के राहत और बचाव कार्य में तत्काल जुट जाएं।’ राहुल ने यह ट्वीट एक खबर को शेयर कर की है।
पटना में जलप्रलय के हालात : झील में तब्दील हो चुके पटना में जलप्रलय की स्थिति है। सड़कों पर पांच से छह फुट तक पानी जमा हो गया है। बिजली, पानी, दूध और गैस की आपूर्ति ठप होने से हाहाकार जैसी स्थिति है। सबसे बुरे हालत राजेंद्र नगर, कंकड़बाग, पाटलिपुत्र इलाकों की है। यहां के लोग तीन दिनों से घरों में फंसे हैं। एनडीआरएफ व एसडीआरएफ की टीम फंसे हुए लोगों को निकालने में जुटी हुई है। दर्जनों परिवारों को सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाया जा चुका है।
मुजफ्फरपुर, दरभंगा, वैशाली, समस्तीपुर, सुपौल, अररिया, किशनगंज, पूर्णिया, सहरसा, मधेपुरा, भोजपुर, जहानाबाद, अरवल, पटना, नालंदा, शेखपुरा, बेगूसराय, बांका, लखीसराय, कटिहार, भागलपुर, मुंगेर, खगड़िया, शिवहर में अगले 24 घंटे के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है। ‑वेब