Home » मोदी सरकार का बड़ा फैसला, अब विदेश दौरे पर दिग्गजों के साथ मौजूद रहेंगे एसपीजी के जवान
राज्य

मोदी सरकार का बड़ा फैसला, अब विदेश दौरे पर दिग्गजों के साथ मौजूद रहेंगे एसपीजी के जवान

मोदी सरकार का बड़ा फैसला, अब विदेश दौरे पर दिग्गजों के साथ मौजूद रहेंगे एसपीजी के जवान
केंद्र सरकार ने नए दिशा निर्देश में कहा है कि अब दिग्गज हस्तियों को विदेश दौरों पर भी एसपीजी सुरक्षा में लगे जवानों को साथ ले जाना होगा… ऐसा नहीं किया जो यात्रा रद हो जाएगी।
नई दिल्ली, केंद्र सरकार ने एसपीजी सुरक्षा पाने वाले दिग्गज हस्तियों के लिए एक नया दिशा-निर्देश जारी किया है। सरकार की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि अब विदेश यात्रा के दौरान भी वीवीआईपी लोगों के साथ एसपीजी सुरक्षाकर्मी मौजूद रहेंगे। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि नए निर्देशों के मुताबिक, एसपीजी सुरक्षा पाए भले ही विदेश दौरे पर क्यों न हों, एसपीजी सुरक्षाकर्मी साए की तरह उनके साथ मौजूद होंगे। सूत्रों ने कहा कि एसपीजी सुरक्षा पाने वाले वीवीआईपी को सरकारी दिशा-निर्देशों का हर हाल में पालन करना होगा। यदि एसपीजी सुरक्षा पाने वाला गणमान्य व्यक्ति विदेश यात्रा के दौरान एसपीजी जवानों को साथ लेकर नहीं जाता है तो उसकी यात्रा रद्द की जा सकती है। गौर करने वाली बात यह है कि अभी हाल ही में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के कोलंबिया यात्रा की खबर आई है। ऐसे में उक्त आदेश बेहद अहम हो जाता है।
बच्चे पैरंट्स से कहेंगे इस बार मनाएं ग्रीन पटाखों की दीवाली- प्रकाश जावडे़कर
यह भी पढ़ें
मौजूदा वक्त में देखें तो पीएम नरेंद्र मोदी के अलावा कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा को एसपीजी सुरक्षा मिली हुई है। सरकार के नए आदेशों के मुताबिक, अब तीनों नेताओं सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को विदेश दौरे पर भी जवानों को साथ ही ले जाना होगा। वैसे सुरक्षा विशेषज्ञों की मानें तो यदि किसी वीवीआईपी को एसपीजी सुरक्षा मिली है तो नियमानुसार उसे सुरक्षा में लगे जवानों को अपने साथ रखना होता है। लेकिन अपने विदेश दौरों पर अधिकांश वीवीआईपी एसपीजी जवानों को साथ नहीं ले जाते हैं।
यह भी पढ़ें
उक्त निर्देशों के मद्देनजर कांग्रेस ने आक्रामक रुख अपनाया है। कांग्रेस ने कहा है कि सरकार ने गांधी परिवार की निगरानी की मंशा से उक्त आदेश जारी किए हैं। एक चैनल पर कांग्रेस प्रवक्ता बृजेश कलप्पा ने कहा कि यह सीधा-सीधा निगरानी में रखे जाने का मामला है। हालांकि, भाजपा ने इन आरोपों को खारिज कर दिया है। भाजपा नेता टॉम वडक्कन ने कहा कि इस आदेश का मकसद वीवीआईपी की सुरक्षा मुहैया कराना है। इसमें निजता के उल्लंघन का कोई भी मसला नहीं है।.-वेब