देश

निर्भया गैंगरेपः चारों की 20 मार्च को फांसी लगभग तय, आज आखिरी दिन

निर्भया गैंगरेप और हत्या मामले में दिल्ली की एक अदालत ने निर्भया के चार दोषियों में से तीन दोषियों अक्षय कुमार, पवन गुप्ता और विनय शर्मा की मौत की सजा पर रोक लगाने का अनुरोध करने वाली याचिका निरस्त कर दी गई है। अदालत ने कहा कि इनमें से एक की दूसरी दया याचिका अब भी लंबित है। दोषियों ने बुधवार को अदालत का दरवाजा खटखटाया था।
अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश धर्मेन्द्र राणा को सरकारी अभियोजक ने बताया कि दोषी अक्षय कुमार सिंह और पवन गुप्ता की दूसरी दया याचिका पर सुनवाई किए बिना उसे इस आधार पर खारिज कर दिया गया कि पहली दया याचिका पर सुनवाई की गई थी और यह अब सुनवाई के योग्य नहीं है।
उन्होंने अदालत को बताया कि दोषियों के वकील ए पी सिंह झूठी सूचना दे रहे हैं कि पवन गुप्ता की दूसरी दया याचिका लंबित है और उन्होंने कहा कि सभी दोषियों ने अपने कानूनी उपायों का इस्तेमाल कर लिया है।
सिंह ने यह भी कहा कि अक्षय की पत्नी ने बिहार की एक अदालत में तलाक की अर्जी दायर की है जो अभी लंबित है। इस पर विशेष लोक अभियोजक ने कहा कि कोई अन्य याचिका मौजूदा मामले के कानूनी उपाय के दायरे में नहीं आती है।
गौरतलब है कि पांच मार्च को एक निचली अदालत ने मुकेश सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय शर्मा (26) और अक्षय कुमार सिंह (31) को फांसी देने के लिए नया मृत्यु वारंट जारी किया था। चारों दोषियों को 20 मार्च को सुबह साढ़े पांच बजे फांसी दी जाएगी। — वेब