राज्य

मेडिकल टीम के साथ बदसलूकी पर लगी रासुका

गाजियाबाद। यूपी सरकार ने गाजियाबाद के जिला एमएमजी अस्पताल में हुई घटना के बाद आरोपियों पर रासुका (छै।) लगाने का आदेश दिया है. अस्पताल में भर्ती कराए गए जमाती मरीजों पर गंभीर आरोप लगाए गए हैं. उन पर अस्पताल परिसर में बिना पैंट नग्न घूमने, नर्सों के साथ छेड़छाड़ और अश्लील इशारे करने, अस्पताल स्टाफ से बीड़ी सिगरेट मांगने के भी आरोप हैं. मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने डीएम, एसएसपी और स्थानीय पुलिस को इसकी लिखित शिकायत दी, जिसके बाद यूपी सरकार ने यह बड़ा फैसला लिया. दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में तब्लीगी जमात में शामिल हुए लोगों को आइसोलेशन में रखा गया है.
गाजियाबाद की घटना पर यूपी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, ’’ये ना कानून को मानेंगे, ना व्यवस्था को मानेंगे, ये मानवता के दुश्मन हैं, जो इन्होंने महिला स्वास्थ्यकर्मियों के साथ किया है, वह जघन्य अपराध है, इन पर रासुका (एनएसए) लगाया जा रहा है, हम इन्हें छोड़ेंगे नहीं.’’
विदित है कि डॉ. रविंद्र सिंह ने कहा, ’’हमारे सिस्टर और पैरामेडिकल स्टाफ ने शिकायत की. जमात के मरीज हमारे स्टाफ के साथ अभद्र व्यवहार कर रहे थे. मेरे स्टाफ ने मुझसे दो से तीन बार कंप्लेंट की, उसके बाद मैंने मरीजों को समझाया लेकिन वह नहीं माने. उन लोगों के परिजन आए तो हमारे स्टाफ ने शिकायत की. कहने लगे हमने वह तो नहीं किया जो इससे भी ज्यादा अपेक्षित था. आखिरकार मेरे स्टाफ ने आकर कहा कि हम इन परिस्थितियों में काम नहीं कर पाएंगे, तब मैंने उनसे लिखित में कंप्लेंट ली और पुलिस को भेजी.’’ ‑वेब