देश

विदेशों से फंडिंग हो रही थी तब्लीगी जमात की

Maulana Saad

नई दिल्ली। कोरोना कनेक्शन सामने आने के बाद तबलीगी जमात पर शिकंजा कसता जा रहा है. मामले की जांच कर रही दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच को जमात की फंडिंग को लेकर कई अहम सुराग हाथ लगे हैं. दरअसल, निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के मरकज पर कार्यक्रम से पहले बैंकों की ओर से एक अलर्ट जारी किया गया था.
बैंक ने अपने अलर्ट में कहा था कि मरकज के अकाउंट में अचानक कैश फ्लो बढ़ गया है. यह पैसे विदेशों से आ रहे हैं. इस बाबत बैंक के अधिकारियों ने जमात के अमीर मौलाना साद से मुलाकात करने की कोशिश भी की, लेकिन वह नहीं मिला. क्राइम ब्रांच ने इस तरह के अलर्ट को नजरअंदाज करने जमात के अकाउंटेंट्स से जवाब मांगा है.
वरिष्ठ अधिकारियों ने मामले की जांच कर रही क्राइम ब्रांच की टीम को होटलों में रहने का निर्देश दिया है. इस बीच बताया जा रहा है कि मरकज में 2041 विदेशी आए थे. इसमें से 284 विदेशियों का रेस्क्यू किया गया था, जिन्हें दिल्ली के अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया था. — वेब