विदेश

चीन ने पाकिस्तान को लगाया अरबों रुपये का चूना

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के दोस्त चीन ने रणनीतिक साझेदारी के नाम पर उसे आर्थिक चोट पहुंचा रहा है. पाकिस्तान में 62 अरब डॉलर की लागत से चीन‑पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर (सीपीईसी) के तहत चीनी कंपनियां खूब मुनाफा कमाने में लगी हुई हैं.
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने बिजली के बढ़ते दाम की जांच के लिए एक कमिटी गठित की थी जिसने अपनी रिपोर्ट में चीन‑पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर (सीपीईसी) के तहत चीनी कंपनियों के भ्रष्टाचार से पर्दा उठाया है. सीपीईसी में पारदर्शिता की कमी और भ्रष्टाचार ने पाकिस्तान को अरबों रुपये का चूना लगाया है.
पाकिस्तान की ’कमिटी फॉर पावर सेक्टर ऑडिट, सर्कुलर डेब्ट रिजर्वेशन ऐंड फ्यूचर रोडमैप’ ने 278 पन्नों की रिपोर्ट तैयार की है. इस रिपोर्ट में कहा गया है कि बिजली उत्पादन के क्षेत्र में अनियमितताओं की वजह से 100 अरब रुपये (पाकिस्तानी रुपया) का नुकसान हुआ है. इसमें से एक तिहाई नुकसान चीनी परियोजनाओं में हुआ है.
चीनी कंपनियों को निर्माण कार्य जारी होने के दौरान 48 महीनों के लिए ब्याज की दरों में छूट की अनुमति दी गई थी लेकिन असल में प्लांट का पूरा काम 27–29 महीनों में ही हो चुका था. इससे कंपनियों को अतिरिक्त भुगतान मिलता रहा. डॉलर के मुकाबले पाकिस्तानी रुपये के 6 फीसदी सालाना अवमूल्यन को देखते हुए यह मुनाफा और बढ़ जाता है. ‑वेब