विदेश

नेपाल की राह पर पाकिस्तान

Imran Khan

इस्लामाबाद। इमरान खान की सरकार ने मंगलवार को देश के नए राजनीतिक नक्शे पर मुहर लगाई। पाकिस्तान सरकार ने यह कदम भारत सरकार की ओर से पिछले साल जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने की पहली बरसी की पूर्व संध्या पर उठाया है। यह पहली बार है जब पाकिस्तान ने इन इलाकों को अपने नक्शे में दिखाया है।
पाकिस्तान के प्रमुख अखबार डॉन की एक रिपोर्ट के मुताबिक इस फैसले के बाद विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी संग देश को संबोधित करते हुए इमरान खान ने इसे पाकिस्तान के लिए ऐतिहासिक दिन बताया, इमरान खान ने कहा, ’’कैबिनेट की ओर से आज इस पर मुहर लगाए जाने के बाद यह देश का आधिकारिक नक्शा है। इसे स्कूल और कॉलेज और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इस्तेमाल किया जाएगा।’’ पाकिस्तान ने गिलगित‑बाल्टिस्तान सहित पूरे जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को नक्शे में दिखाते हुए लिखा है कि यह विवादित इलाका है और संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों के तहत अंतिम फैसला होगा।
इससे पहले नेपाल ने भी देश का नया राजनीतिक नक्शा जारी करते हुए भारतीय क्षेत्रों कालापानी, लिंपियाधुरा और धारचुला को अपने शामिल कर लिया था। इमरान खान ने कहा कि कश्मीर का मुद्दा केवल संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के तहत हो सकता है, जो कश्मीरी लोगों को स्वनिर्णय का अधिकार देता है। इमरान खान ने कहा कि विश्व समुदाय ने अभी तक उन्हें यह अधिकार नहीं दिया है। सरकार इस दिशा में प्रयास करती रहेगी।
पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने गिलगित बाल्टिस्तान सहित सियाचिन को भी अपने देश का हिस्सा बताया और कहा कि हमारा गंतव्य श्रीनगर है। उन्होंने यह भी कहा कि पूर्व के फाटा क्षेत्र को खैबर पख्तूनख्वाह से जोड़ दिया गया है। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद पाकिस्तान ने इस मुद्दे को हर स्तर पर उठाने को लेकर पूरा जोर लगा लिया, लेकिन उसे हर जगह निराशा ही हाथ लगी। ‑वेब

Advertisement

Advertisement

Advertisement