लखनऊ

बिजली कर्मचारियों की हड़ताल से लखनऊ व्यवस्था चरमराई

लखनऊ। शहर के कई ऐसे इलाके हैं जहां पिछले 36 घंटे से बिजली और पानी गुल है। लोगों के लिए सोमवार की रात काटना मुश्किल हो गया है। हाल ये है कि वीआईपी इलाकों में भी पावर सप्लाई ठप है। राजभवन खंड के तहत इलाके में रहने वाले राज्यपाल के अपर मुख्य सचिव महेश कुमार गुप्ता सहित कई सेवानिवृत्त आईएएस और आईपीएस के घरों की दोपहर से गुल बिजली रात दस बजे तक चालू नहीं हो सकी।
जवाहर भवन उपकेंद्र के ऑपरेटर ने बताया कि रेड हिल स्कूल रोड पर अपर मुख्य सचिव सहित रिटायर्ड अफसर रहते हैं, जिनकी दोपहर करीब 2ः45 बजे बिजली बंद हो गई। ट्रांसफार्मर की पेटी का फ्यूज जलने से सप्लाई बंद हुई। हड़ताल के चलते नया फ्यूज न लगने से देर रात तक बिजली बंद रही।
वहीं, मंगलवार सुबह रहीमाबाद उपकेंद्र में धमाका हो गया जिससे 200 से अधिक गांवों की बिजली गुल हो गई है। प्रबंधन का दावा है कि वैकल्पिक फीडर से गांवों की बिजली को कुछ देर बाद ही चालू कर दिया गया। पुरनिया उपकेंद्र के अलीगंज के सेक्टर डी में सोमवार दोपहर में 400 केवी का ट्रांसफार्मर जल गया था।
लोगों ने अधिकारियों से लेकर उपकेंद्र तक शिकायत की पर आश्वासन मिलता रहा की ट्रॉली ट्रांसफार्मर लगाकर बिजली चालू कर दी जाएगी लेकिन 24 घंटे हो चुके अब तक जले ट्रांसफार्मर की जगह दूसरा ट्रांसफार्मर नहीं लगाया गया। जिसके कारण करीब 200 से अधिक घरों को आज 500–500 मीटर दूरी से पानी भरकर लाना पड़ा।
उपेंद्र के संविदा कर्मचारियों ने बताया कि सुबह 11ः40 बजे कूपर रोड उपकेंद्र को गोमती नगर ट्रांसमिशन उपकेंद्र से आने वाली 33 केवी सप्लाई में ब्रेकडाउन हो गया। इससे विक्रमादित्य मार्ग, माल एवेन्यू, कालीदास मार्ग, जियामऊ और सीएम आवास के आसपास का इलाका बिजली संकट की चपेट में आ गया। वीआईपी इलाके की बिजली गुल होते ही शक्ति भवन में अफसरों के फोन बजने लगे। ‑वेब