लखनऊ

प्रेम जाल में फंसा कर किया ब्लैकमेल

लखनऊ पीजीआई कोतवाली क्षेत्र स्थित साउथ सिटी कालोनी में रहने वाले एक प्रोफेसर से महिला ने मिस कॉल देकर दोस्ती गांठी, फिर कुछ दिन बाद उन्हें बच्चे की तबीयत खराब होने के बहाने घर बुलाया। घर के अंदर मौजूद दो युवकों ने प्रोफेसर को बंधक बनाकर निर्वस्त्र किया। फिर वीडियो बनाकर उसे वायरल करने की धमकी देते हुए 10 लाख रुपये मांगे। प्रोफेसर किसी तरह वहां से छूटा तो उसने पुलिस को सूचना दे दी। पुलिस ने चार दिन बाद आरोपी युवकों को गिरफ्तार कर लिया। दोनों युवक फर्जी पत्रकार निकले। उनके पास फर्जी परिचय पत्र भी मिले है। इस मामले में आरोपी महिला की तलाश की जा रही है।
यह घटना 15 फरवरी की है। साउथ सिटी में रहने वाले प्रोफेसर आदेश कुमार के मुताबिक उनके मोबाइल पर 22 जनवरी को एक मिस काल आयी। इस पर उन्होंने कॉल की तो एक महिला ने बात की। फिर वह अक्सर बात करने लगी। इसी का फायदा उठाते हुए उसने प्रोफेसर को घर बुला लिया। इंस्पेक्टर आशीष द्विवेदी ने बताया कि घर पर महिला के अलावा गोरखपुर के खजनी निवासी सत्येन्द्र कुमार शर्मा और अयोध्या, गोसाईगंज निवासी सौरभ सिंह भी मौजूद थे। इन लोगों ने प्रोफेसर की पिटाई की, फिर बंधक बना लिया। इसके बाद दोनों ने उसे निर्वस्त्र कर दिया। फिर खुद को पत्रकार बताते हुए वीडियो बना लिया और वायरल करने की धमकी दी। दोनों ने वायरल न करने के लिये 10 लाख रुपये मांगे। प्रोफेसर ने रुपये देने के लिये हामी भरी तो उन्हें तीन दिन में इंतजाम करने की बात कहकर छोड़ दिया गया।
पीड़ित वहां निकलते ही घर पहुंचा। तीन दिन तक वह बदनामी के डर से पुलिस से शिकायत करने नहीं गये। फिर एक दोस्त को आपबीती सुनायी तो उसने हिम्मत बंधायी। इसके बाद ही उन्होंने पीजीआई कोतवाली में एफआईआर दर्ज करायी। उन्होंने यह भी कहा कि आरोपियों ने उनका एटीएम कार्ड व अन्य दस्तावेज भी लिये थे। साथ ही उनसे पासवर्ड पूछकर 11 हजार रुपये उसी दिन निकलवा लिये थे।
पुलिस ने बताया कि खुद को पत्रकार बताने वाले दोनों युवकों सत्येन्द्र और सौरभ ने अलग-अलग नम्बरों से तीन दिन तक प्रोफेसर को खूब फोन किये। ये लोग रुपये न देने के लिये उसे धमकाते भी थे। पुलिस ने सर्विलांस की मदद से दोनों को गिरफ्तार कर लिया। इनके पास एटीएम कार्ड के अलावा दो अखबारों के फर्जी परिचय पत्र भी मिले हैं। ‑वेब

Advertisement

Advertisement

Advertisement