Home » पाकिस्तान की बौखलाहट, ट्रंप कार्ड था या फिर ट्रैप कार्ड ?
विदेश

पाकिस्तान की बौखलाहट, ट्रंप कार्ड था या फिर ट्रैप कार्ड ?

पाकिस्तान की संसद में मंगलवार को संयुक्त सत्र बुलाया गया था. संसद में जब प्रधानमंत्री इमरान खान कश्मीर मुद्दे पर उठे सवालों का जवाब दे रहे थे तो उनके हाव-भाव में बौखलाहट साफ नजर आई.
संसद में विपक्ष के नेता शाहबाज शरीफ के सवालों का जवाब देते हुए इमरान ने अपना आपा खो दिया. उन्होंने विपक्ष से सलाह मांगते हुए कहा कि आप ही बताएं कि कश्मीर में भारतीय कार्रवाई के जवाब में उनकी सरकार को क्या कदम उठाने चाहिए. इमरान ने कहा, आखिर मैंने कौन सा कदम नहीं उठाया है, हमारा विदेश मंत्रालय तमाम देशों के राजदूतों के साथ बैठक कर रहा है. मैं दूसरे देशों के साथ भी संपर्क कर रहा हूं. अंतरराष्ट्रीय मंच से भी मदद मांग रहे हैं. शरीफ बताएं कि अब मुझे और क्या करना चाहिए ?
इमरान ने आगे कहा, हम संयुक्त राष्ट्र में सालों से गुहार लगा रहे हैं, हमने इस्लामिक सहयोग संगठन से भी कल बात की. कौन सी चीज है जो मैंने नहीं की, जो विपक्ष हमें ललकार रहा है. हम क्या हिंदुस्तान पर हमला कर दें ?
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि उनकी सरकार तमाम पड़ोसी देशों के साथ अच्छे ताल्लुकात चाहती थी इसीलिए उन्होंने अफगानिस्तान, ईरान और भारत से संवाद करने की कोशिश की. इमरान ने कहा कि नरेंद्र मोदी ने हमारी बात समझने के बजाय चुनाव में फायदा उठाने के लिए पाकिस्तान के खिलाफ बयान दिए.
इमरान खान ने कहा कि मोदी सरकार ने कश्मीर में जो कुछ किया, वह उनकी विचारधारा के अनुरूप है. मोदी सरकार आरएसएस के एजेंडे को ही आगे बढ़ा रही है. उनकी नस्लवादी विचारधारा है.
विपक्षी दल के नेता शरीफ ने इमरान के भाषण के बाद जवाब दिया कि उन्हें युद्ध छेड़ने की जरूरत नहीं है लेकिन उन्हें मजबूती से अपना पक्ष रखना चाहिए. उन्होंने कहा, आप कश्मीर को एक संदेश दें कि हम तुम्हारे साथ हैं और तुम्हारा कोई बाल बांका भी नहीं कर सकता है.
विपक्षी दल के नेता शाहबाज शरीफ ने इमरान खान की सरकार से कश्मीर पर भारत के फैसले का जवाब देने की मांग की. उन्होंने कहा, इसमें कोई शक नहीं है कि हमें अपने सभी पड़ोसियों के साथ अच्छे रिश्ते बनाने चाहिए. हम भारत के खिलाफ तीन युद्ध लड़े और नतीजे सबके सामने हैं…हम दोस्ताना रिश्ता चाहते हैं लेकिन आत्मसम्मान के साथ.
उन्होंने कहा कि हमारे मित्र देश जैसे चीन भी पाकिस्तान के समर्थन में खड़े नहीं हो रहे हैं. क्या ये हमारी विदेश नीति की असफलता नहीं है ? ट्रंप के कश्मीर मुद्दे पर भारत-पाकिस्तान के बीच मध्यस्थता के प्रस्ताव पर शाहबाज ने पूछा कि ये ट्रंप कार्ड था या फिर ट्रैप कार्ड ? – वेब