Home » गूगल के लिए लॉकडाउन बना वरदान
देश

गूगल के लिए लॉकडाउन बना वरदान

अपने कर्मचारियों पर दिल खोल कर खर्च करने के लिए गूगल आगे बढ़ने के अवसर खोज लेती है, ऐसे ही गूगल को नंबर वन नहीं कहा जाता। एक तरफ प्रतिबंध हटने के साथ, ज्यादातर लोग ऑनलाइन ट्रैवल और होटल बुक कर रहे हैं, जो बिजनेस के लिए अच्छा है। वहीं दूसरी ओर गूगल के ज्यादातर कर्मचारी ट्रैवल नहीं कर रहे हैं बल्कि घर से कामकाज निपटा रहे हैं और यह बात भी गूगल के लिए फायदेमंद साबित हो रही है।
दरअसल, पहली तिमाही के दौरान, गूगल की पैरेंट कंपनी अल्फाबेट ने पिछले साल की समान अवधि की तुलना में कंपनी के प्रमोशन, ट्रैवल और एंटरटेनमेंट के खर्चों में $ 268 मिलियन (लगभग 1,980 करोड़ रुपये) की बचत की है, और यह सिर्फ और सिर्फ कोविड‑19 की वजह से मुमकिन हुआ है। सालाना तौर पर, यह $ 1 बिलियन (लगभग 7,400 करोड़ रुपये) से अधिक होगा।
दरअसल, अल्फाबेट ने इस साल की शुरुआत में अपनी एनुअल रिपोर्ट में कहा था कि साल 2020 में एडवरटाइजिंग और प्रमोशनल खर्चों में $1.4 बिलियन (लगभग 10,360 करोड़ रुपये) की कमी आई है क्योंकि कंपनी ने महामारी के दौरान खर्चों को घटाया, रोका या कैंपेन को रीशेड्यूल और कुछ इवेंट्स को केवल डिजिटल फॉर्मेट में बदल दिया। ऐसे में ट्रैवल और एंटरटेनमेंट खर्च $371 मिलियन (लगभग 2,740 करोड़ रुपये) कम हो गया. ‑वेब