Home » अफगानिस्तान का भारत को नसीहतें देना शुरू
विदेश

अफगानिस्तान का भारत को नसीहतें देना शुरू

सत्ता पर काबिज हुए तालिबान ने अब अपना असली चेहरा दिखाना शुरू कर दिया है। यहां तक कि वह पाकिस्तान के हाथों कठपुतली बन गया है और भारत को नसीहतें देना शुरू कर दिया है। तालिबान के प्रवक्ता सुहैल शाहीन ने भारत के बारे में बात करते हुए कहा कि तालिबान किसी भी देश को अफगानिस्तान की जमीन का इस्तेमाल किसी और के खिलाफ करने की अनुमति नहीं देगा। हालांकि हम उनकी ओर से किए जा रहे निर्माण कार्यों को पूरा किए जाने का स्वागत करते हैं। यदि वे अपने प्रोजेक्ट्स को पूरा करना चाहते हैं तो ऐसा कर सकते हैं।
तालिबान की इस भाषा से साफ है कि वह पाकिस्तान की बोली बोल रहा है। दरअसल पाकिस्तान यह आरोप लगाता रहा है कि भारत अफगानिस्तान का इस्तेमाल कर हमारे यहां उपद्रव फैलाता है। चीनियों की हत्या पर भी पाकिस्तान ने यही कहा था कि इसमें भारत और अफगानिस्तान का हाथ रहा है। ऐसे में साफ है कि पाकिस्तान की शह पर ही तालिबान ने इस तरह का बयान दिया है। पाकिस्तानी चैनल ’हम न्यूज’ को दिए इंटरव्यू में तालिबान के प्रवक्ता ने भारत को लेकर कहा, ’हम कह चुके हैं कि हम किसी भी देश या समूह को अफगानिस्तान की जमीन का किसी अन्य के खिलाफ इस्तेमाल नहीं करने देंगे। यह स्पष्ट है।’
हाल ही में भारत ने अफगानिस्तान के तमाम प्रोजेक्ट्स में काम कर रहे अपने प्रोफेशनल्स को भी वापस बुलाया है। काबुल में अफगानिस्तान की संसद और सलमा डैम के निर्माण के अलावा भी तमाम प्रोजेक्ट्स में भारत जुड़ा रहा है। भारत ने अफगानिस्तान में 3 अरब डॉलर का खर्च किया है। किसी भी अन्य पड़ोसी देश ने अफगानिस्तान में इतना बड़ा निवेश नहीं किया था। -वेब