Home » अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन को बड़ा झटका, अमेरिका में उनके प्रति नाराजगी
विदेश

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन को बड़ा झटका, अमेरिका में उनके प्रति नाराजगी

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन को बड़ा झटका लगा है। अमेरिका से सैनकिों की वापसी का असर जो बाइडेन की अप्रूवल रेटिंग पर पड़ा है। संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति के रूप में जो बाइडेन की अप्रूवल रेटिंग अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद अब तक के सबसे निचले स्तर पर है। 15 अगस्त को तालिबान ने काबुल पर कब्जा कर लिया था और 31 अगस्त तक अमेरिका ने अपने सभी सैनिकों-नागरिकों को सुरक्षित निकाल लिया।
एनपीआर और पीबीएस न्यूशोर के साथ एक नए मैरिस्ट नेशनल पोल के अनुसार, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन की अप्रूवल रेटिंग 43 प्रतिशत के अब तक के सबसे निचले स्तर पर आ गई है, जो उनके राष्ट्रपति बनने के बाद से सबसे कम है। अधिकांश अमेरिकियों ने जो बाइडेन की विदेशी नीति की निंदा की है, जबकि आबादी के एक बड़े हिस्से ने भी अफगानिस्तान में संयुक्त राज्य की भूमिका को ’विफल’ करार दिया है।
नए पोल की मानें तो फिलहाल जो बाइडेन की अमेरिकी राष्ट्रपति के रूप में अप्रूवल रेटिंग 43 प्रतिशत है। वहीं करीब 56 प्रतिशत अमेरिकी नागरिकों ने उनकी विदेश नीति के तौर‑तरीकों को अस्वीकार किया है। मैरिस्ट पोल द्वारा प्रकाशित डेटा से पता चलता है कि करीब अमेरिका की 61 प्रतिशत आबादी अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी के खिलाफ है। पोल में कहा गया है कि हालांकि, अमेरिकी इस बारे में निश्चित नहीं हैं कि अफगानिस्तान में वास्तव में क्या होना चाहिए था, मगर एक बड़े बहुमत (लगभग 71 प्रतिशत) का कहना है कि अफगानिस्तान में संयुक्त राज्य की भूमिका विफल साबित हुई है।
ऐसा कहने वाले 71 प्रतिशत अमेरिकियों में 73 प्रतिशत रिपब्लिकन शामिल हैं, वहीं 66 प्रतिशत डेमोक्रेट भी हैं। इस तरह से बाइडेन की नीतियों से असंतोष जाहिर करने वालों में डेमोक्रेट का एक बड़ा बहुमत है, जो उनकी अपनी पार्टी के सहयोगियों के बीच एक बड़े असंतोष का संकेत देता है। इतना ही नहीं, इस पोल में लगभग 75 प्रतिशत स्वतंत्र राजनेता भी शामिल हैं। अमेरिकियों का एक बड़ा हिस्सा यानी 61 प्रतिशत लोगों को लगता है कि अफगानिस्तान को अमेरिका की भागीदारी के बिना अपना भविष्य निर्धारित करना चाहिए, जबकि 29 प्रतिशत आबादी का मानना है कि युद्धग्रस्त देश के मामले में शामिल रहना संयुक्त राज्य का कर्तव्य है। ‑वेब